कपडो का Business कैसे करे ? कपडो का Business करके पैसे कैसे कमाऐ ? 

आज हम जानेंगे की कैसे कपडो का Business करे और कैसे इससे पैसा कमाऐ ! 

How to Do Business Casual In Hindi
How to Do Business Casual In Hindi

तोह चलिऐ शूरू करते है –

छोटी फैक्ट्री से स्टार्ट कर सकते हैं

आप अपनी टेलरिंग और मेन्युफैक्चरिंग के अनुभव के आधार पर एक छोटी गारमेंट फैक्ट्री का सेटअप कर सकते हैं। गारमेंट बनाएं और अपने शहर के रिटेलर और होल सेलर को कपड़े सप्लाई करें। आप स्कूल यूनिफॉर्म, लेडीज कुर्ती, सलवार कमीज, शर्ट या ब्लाउज जैसे कपड़े इस सेटअप में तैयार कर सकते हैं।

कांट्रेक्टर बन जाये और कपडा सप्लाई करें

एक्सपोर्ट हाउस या देशी ब्रांड्स के लिए आप सब कॉन्ट्रैक्टिंग का व्यापार कर सकते हैं। खरीदारी के सीजन में एक्सपोर्ट हाउस और ब्रांडेड कंपनियां ज्यादा से ज्यादा कपड़े बनाने के लिए सब कॉन्ट्रैक्टर हायर करती हैं। इसमें आपको इनके पास से कटपीस उठाना होता है और उन्हें सिलकर वापस सप्लाई कर देना होता है।

गारमेंट होलसेल बिजनेस करें

मेन्युफैक्चरिंग हब से बने हुए कपड़े उठाएं और उस कपड़े को छोटे शहरों के दुकानों को सप्लाई करें। चूंकि आप हब से ज्यादा मात्रा में कपड़े उठाएंगे इसलिए आपको काफी मार्जिन में पैसों का फायदा होगा।

छोटा-सा कपड़ों का दुकान खोल सकते हैं

आप छोटे शहर के मार्केट में एक छोटा-सा कपड़ों का दुकान खोल सकते हैं या बड़े शहरों में किसी मॉल के अंदर कपड़ों की एक स्टॉल लगा सकते हैं।

गारमेंट्स एक्सपोर्ट कर सकते हैं

एक्सपोर्ट के गारमेंट जो कम कीमत पर मिलते हैं उनकी बाजार में काफी डिमांड है। एक्सपोर्ट के दौरान रिजेक्ट हुए माल की आउटलेट खोलकर आप अच्छे पैसे कमा सकते हैं। फैक्ट्री से ऐसा माल कम कीमत पर खरीदकर आप उसे अच्छी कीमत पर बेच सकते हैं।

प्रिंटिंग और इम्ब्राइडरी

गारमेंट  बिजनेस में प्रिंटिंग और इम्ब्राइडरी एक वैल्यू एडेड सर्विस है। डिजाइनर अपने कपड़ों को ट्रेंडी और फैशनेबल बनाने के लिए हमेशा अपने कपड़ों में पैच वर्क का इस्तेमाल करते हैं। कपड़े बनाने वाले ज्यादातर प्रिंटिंग और इम्ब्राइडरी के लिए मशीन अलग से इंस्टॉल नहीं कर पाते। ऐसे में प्रिंटिंग और इम्ब्राइडरी का बिजनेस बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है।

गारमेंट बिजनेस एजेंसी

अगर आप कि सी एक्सपोर्ट हाउस में व्यापार का काम कर रहे हैं तो आपके खरीदारों के साथ अच्छे संबंध होंगे। ऐसे में आप खरीदारों से संपर्क कर उनसे ऑर्डर लेकर माल की सप्लाई कर सकते हैं। आप ज्यादा से ज्यादा खरीदारों को आकर्षित करने के लिए प्रोडक्ट डेवलपमेंट और सैंपलिंग रूम स्थापित कर सकते हैं।

आईटी सर्विसेज

गारमेंट इंडस्ट्री बहुत तेजी से तकनीक को अपना रहा है। ये ईआपी सिस्टम या अन्य कोई भी तकनीक हो सकती है। अगर आपको आईटी की समझ है और आप इनोवेटिव टूल बनाकर एक्सपोर्टर की समस्याओं जैसे पैटर्न मेकिंग, रियल टाइम डाटा क्लेकशन, प्रोडक्ट प्लानिंग और मटीरियल मैनेजमेंट के लिए काम कर सकते हैं।

गारमेंट व्यवसाय – गारमेंट बिजनेस खोलने का प्लान

गारमेंट बिजनेस की प्लानिंग का पहला स्टेप गारमेंट की कैटेगरी का चुनाव करना होता है। अगर आप नीट गारमेंट (जैसे टी-शर्ट या पोलो)  बनाने की सोच रहे हैं तो आपको उसके साथ बुने हुए कपड़े बनाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। नीट और बुने हुए कपड़ों में भी कई श्रेणियां हैं। अपने प्रोडक्ट सिलेक्शन को सीमित रखिए। मान लीजिए आप बुने हुए शर्ट-फॉर्मल और  कैजुअल बना रहे हैं। इस हिसाब से आप कपड़ों की लिस्टिंग कर लें।

Part 2 कपडो का Business कैसे करे ? कपडो का Business करके पैसे कैसे कमाऐ ? How to Do Business Casual In Hindi जल्द ही संपादीत किया जाऐगा !

कोई प्रश्न हो तो कमेंट करे ! 

[plinker]

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here